सोमवार, 16 अगस्त 2021

बाल कहानी -- जंगल में सफाई अभियान

 

बाल कहानी

जंगल में सफाई अभियान



एक बार कानन वन के राजा शेर सिंह ने अपने दरबार में मंत्रियों की सभा बुलाई तो अचानक इस बुलावे पर सभी मंत्रीगणों में आपस में काना-फूसी होने लगी की आखिर बात क्या है।जंगल में तो सब ठीक-ठाक चल रहा है।

           खैर, राजा का बुलावा था तो सभा में जाना तो था ही।सभी मंत्रीगण निर्धारित समय पर सभा में पहुँच गए।

      राजा शेर सिंह भी आकर अपने सिंघासन पर आसीन हुए।उन्होंने एक जोर की दहाड़ मारी और बोलना शुरू किया कि—“आप सभी सोच रहे होंगे कि मैंने अचानक ये सभा क्यों बुलाई?” तो सभा में फिर थोड़ी हलचल मची।

राजा शेर सिंह ने कहा कि – “चिंता की कोई बात नही।बस मेरे मन में एक विचार आया तो सोचा की आप सभी मित्रों के सामने अपनी बात रक्खूं।”

सभी एक दूसरे का मुँह देखने लगे।राजा शेर सिंह ने कहा कि-“देखिये शहर में कितना प्रदूषण फैला हुआ है और उसको रोकने के लिए सरकार पर्याप्त व्यवस्था भी कर रही है।”

शेर सिंह ने एक बार जोर से जम्हाई ली और आगे फिर बोला—“ दूसरी ओर शहरों के विकास के लिए मनुष्य पेड़ों को तो काट ही रहा है साथ ही अपने यहाँ का सारा कचरा लाकर हमारे जंगल के बाहर फेंक रहा है जिससे हमारा जंगल भी प्रदूषित हो रहा है।तो क्यों ना हम भी ऐसी कोई व्यवस्था करें कि हमारा जंगल भी सुरक्षित बचा रहे।”

शेर के चुप होते ही जानवरों में खुसुर-पुसुर शुरू हो गयी।

शेर सिंह फिर से दहाड़ा—“भाई आपस में खुसुर-पुसुर मत करिए।सब एक एक कर बारी-बारी अपने विचार रखिये।”  

राजा शेर सिंह ने अपनी बात आगे बढाई—“लेकिन एक समस्या है।”

“वो क्या?सभी एक साथ बोले।

  राजा शेर सिंह ने कहा-“ केवल अपना जंगल सुरक्षित रखने से कोई फायदा नहीं होगा।इसके लिए जरूरी है कि हमारे आस-पास के जंगल भी साफ़ सुथरे रहें।इसके लिए हम सबको एकजुट होना पड़ेगा।”

          तब इस जंगल के मंत्री बलवान भालू उठ कर खड़े हुए और बोले-“ इसके लिए हमें क्या करना होगा महाराज? शेर सिंह ने कहा कि-“हमने एक उपाय सोचा है।क्यों न हम हर जंगल के राजा को इस अभियान के प्रति जागरूक करें।और सभी एक साथ मिलकर इस अभियान को पूरा करें।”

   राजा के इस विचार का सभी ने जोरदार तालियों द्वारा स्वागत किया।

अब समस्या ये थी कि हर जंगल में जाकर वहां के राजा को सूचित कैसे किया जाए? इस काम के लिए झुमरू बन्दर को चुना गया जो जल्दी-जल्दी हर जंगल में जाकर महाराजा शेर सिंह की  ये सूचना सबको  पहुंचा सके। 

झुमरू बंदर ने अगले दिन से ही फटाफट अपना कार्य शुरू कर दिया और तिन चार दिनों में  ही राजा शेर सिंह को सूचित कर दिया कि सभी जंगलों के राजा इसके लिए तैयार हैं।और उन्होंने अपना पूरा सहयोग देने का वादा किया है।यह सुन कर शेर सिंह बहुत प्रसन्न हुए।और इस तरह सभी के सहयोग से कुछ ही समय में कानन वन के साथ ही उसके आस पास के सभी जंगल साफ़ सुथरे होते चले गए।

                            ००००


लेखिका--पूनम श्रीवास्तव

एक सामान्य गृहणी।देश,समाज,परिवार,प्रकृति को देख उसे अपने अंदर महसूस करके मन में होने वाले मंथन को अक्सर कागज पर कुछ शब्दों का आकार देने की कोशिश करती हैं  …।इन्हीं कोशिशों में कभी कविता,कभी गजल तो कभी गीत बन जाते  हैं। कई प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में कविताओं,लेखों के साथ ही बाल कविताओं कहानियों का प्रकाशन।अभी तक बच्चों के लिए एक चित्रात्मक कहानी “रंग बिरंगी दुनिया” प्रौढ़ों के लिए दो किताबें—“चिट्ठी आई” और “अपना धन” प्रकाशित।प्राथमिक स्कूल की कुछ पाठ्य पुस्तकों में भी बच्चों की कहानी और कवितायेँ प्रकाशित।इन्टरनेट पर इनकी  कवितायें,गीत,ग़ज़ल,कहानियां,लेख इनके  ब्लाग पर भी पढ़ी जा सकती हैं।

ब्लाग का पता है;

http://jharokha-jharokha.blogspot.com

 

 

 

रविवार, 11 जुलाई 2021

बदले बदले शहर गांव हैं

 

बिटिया रेवा 

दीदी भैया मम्मी पापा

सुन लो बहुत जरूरी बात

बिना मास्क के कहीं न जाना

चाहे  दिन  हो या हो रात l

 

भीड़ भाड़  से  दूरी  रखना

सदा सफाई पर देना ध्यान

घर से पढ़ना घर से लिखना

घर से ही करो जरूरी काम l

 

बदले बदले शहर गांव हैं

तौर तरीके नए नए

पढ़ने लिखने के ढंग बदले

सीख रहे  हैं खेल  नए  l

००००००



कवि-कौशल  पाण्डेय 

1310बसंत विहार

कानपुर-208021 मोबाइल-09532455570

कानपुर के अंकिन गाँव में 3 अगस्त 1956 को पैदा हुए कौशल पाण्डेय हिंदी बाल साहित्य के सशक्त हस्ताक्षर हैं l1977 से हिंदी की स्तरीय पत्र-पत्रिकाओं में लगातार रचनाओं का प्रकाशन lबच्चों बड़ों की अभी तक लगभग 10 किताबें प्रकाशित lदेश की कई संस्थाओं द्वारा प्रतिष्ठित पुरस्कारों से सम्मानित l 2016 में आकाशवाणी से सहायक निदेशक राजभाषा पदसे अवकाश ग्रहण करने के बाद स्वतन्त्र लेखन l   

 

गुरुवार, 11 मार्च 2021

झुमरू का बेटा

 (आज 11 मार्च को मेरे पिता स्व० श्री प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव जी का जन्म दिवस है।इस अवसर पर उन्हें स्मरण करते हुए उनकी यह कहानी आप सभी पाठकों के लिए।)

                   झुमरू का बेटा

               

                                                  लेखक--प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव



          झुमरू हमारे यहाँ हलवाहा था।उसका बेटा था नकुल।गाँव के जूनियर हाईस्कूल में नकुल और मैं एक ही कक्षा में पढ़ते थे।स्कूल में नकुल का नाम नकुलचन्द था।लेकिन मेरी माँ उसे नक्कू ही पुकारती थी।जब भी माँ उसे नक्कू कह कर बुलातीं मै उन्हें तुरन्त टोकता-माँ यह नक्कू नहीं नकुल है।स्कूल में इसका नाम नकुलचन्द है।

अरे चलचल, बड़ा आया नाम वाला।है तो झुमरू का ही बेटा न, नक्कू।होगा स्कूल में इसका नाम नकुलचन्द।माँ चिढ़ कर उत्तर देती।

          नकुल मेरा सहपाठी ही नहीं, मेरा अच्छा दोस्त भी था।पढ़ाई में बहुत तेज।वह मेरे साथ खेलता।हम साथ साथ घर पर पढ़ने भी बैठ जाते।कभी कभी वह हमारे यहाँ ही खाना भी खा लेता। मगर मुझे खाना थाली में दिया जाता, उसे पत्तल में।दरवाजे पर महुआ का पेड़ था।झुमरू रोज उसके पत्ते तोड़ कर पत्तल बनाता।बाप बेटे उसी पर साथ साथ खाते थे।आँगन के एक कोने में जमीन पर बैठ कर।खाने के बाद झुमरू उस जगह को पानी से लीप देता था।

    मां मुझे बहुत प्यार करती थी।इसीलिये मुझे नकुल के साथ खेलने पढ़ने से तो नहीं मना करती थीं।मगर वे इसका बड़ा ध्यान रखती थीं कि मेरे और नकुल के बीच एक दूरी अवश्य बनी रहे।मालिक और मजदूर की।शायद ऊँच नीच की भी।वे उसके हाथ का पानी नहीं पीती थीं।

पर यह सब जानते हुए भी नकुल माँ का बड़ा आदर करता था।वे जब उसे बुलातीं वह अपने सारे काम छोड़ दौड़ पड़ता।मैं खीझता तो वह मुझे समझाता --देख रमेश, इससे क्या होता है।मन से तो वे मुझे प्यार ही करती हैं।

      मेरे पिता जी शहर में नौकरी करते थे।हफ्ते में एक दिन के लिए घर आते थे।गाँव में हम लोगों की अच्छी खेती बारी थी।माँ इसके मोह जाल में फँस कर पिताजी के साथ शहर में रहने के लिए तैयार नहीं थीं।इसीलिए मुझे भी माँ के साथ ही रहना पड़ा।

समय ऐसे ही बीत रहा था।देखते न देखते वह दिन भी आया कि नकुल और मैंने गाँव के स्कूल की पढ़ाई पूरी कर ली।पढ़ाई के प्रति नकुल की लगन देख पिता जी ने मेरे साथ ही उसका नाम भी शहर के कालेज में लिखवा दिया।पर आगे चल कर हम लोगों को अलग होना पड़ा।वह मेडिकल की पढ़ाई करने दूसरे शहर चला गया।मैं प्रशासनिक सेवा की तैयारी करने लगा।

माँ को अब भी अपने गाँव के घर, जमीन, जायदाद का मोह जकड़े हुए था।इसीलिए घर नहीं छोड़ा। उनकी सेवा के लिए पिता जी ने एक नौकरानी लगा दी।बीच बीच में कभी मैं, कभी पिताजी उनके पास पहुँच जाते थे।

बहुत दिनों से मैं न तो नकुल से मिल पाया, न उसका कोई हालचाल मिला।एक दिन सुना कि वह डाक्टर  बन गया है।मगर उसने शहर में प्रैक्टिस करने के बजाय अपने गाँव में ही एक दवाखाना खोल लिया है।सुन कर मुझे बड़ी प्रसन्नता हुई।

इस बार गाँव आने पर नकुल से मेरी भेंट हुई।मैंने उसे गले लगाते हुए कहा --नकुल, गाँव में अपना दवाखाना खोलने के तुम्हारे फैसले से मैं बहुत खुश हूँ।आज लोग डाक्टर बनते ही पैसों के पीछे भागने लगते हैं।इसीलिए वे शहरों में ही अपना नर्सिंग होम खोलने या सरकारी नौकरी में आने का लालच नहीं छोड़ पाते।अपने देश का बड़ा हिस्सा गाँवों में ही बसता है।यहाँ सरकारी दवाखाने हैं पर वे अपर्याप्त हैं।तुम गाँव के लिए कुछ करोगे तो यह सब से बड़ी देश सेवा होगी।अब मैं भी माँ की ओर से निश्चिन्त रहूँगा।

अरे यह भी कोई कहने वाली बात है।वे तो मेरी भी माँ हैं। नकुल मुस्करा कर बोला।

लेकिन जब माँ ने सुना तो वे बड़बड़ायीं --अरे वाह, झुमरू का बेटा गाँव में डाक्टरी करने आया है। भला वह किसी केा क्या ठीक करेगा।कौन खायेगा उसके हाथ की दवा।

लेकिन इसके विपरीत नकुल बराबर उनका हालचाल लेने पहुँच जाता।उनकी कोई तकलीफ सुनता तो उसकी दवा दे जाता।मगर माँ उसके जाते ही उस दवा को किसी कोने में फेंक देती।

एक दिन नकुल ने देखा-- माँ को ज्वर है।उसने तुरन्त उनके लिये दवा भिजवा दी।मगर माँ ने हमेशा की तरह उसे भी फेंक दिया।

अगले दिन नौकरानी दौड़ती हुई नकुल के पास आयी और बोली-डा०साहब, माँ जी को बड़ा तेज बुखार है।उन्हें सुध बुध नहीं है।

नकुल तुरन्त दवा का बैग ले कर दौड़ पड़ा।माँ का शरीर तवे की तरह तप रहा था।वे अचेत थीं। नकुल नें उन्हें इन्जेक्शन लगाया।फिर माथे पर ठंडे पानी की पट्टी रखने लगा।

कुछ समय बाद माँ को आराम मिलता दिखायी दिया।उनकीं पलकें धीरे धीरे खुलने लगीं।थोड़ी देर बाद वे पूरी तरह होश में आ गईं।उन्होंने आँखे खोली तो देखा-- नकुल उनके पास बैठा माथे पर पानी की पट्टी रख रहा था वे सब समझ गईं।उनकी आँखें डबडबा आयीं।काँपते होठों से बस दो ही शब्द निकले-- बेटा नकुल।

हाँ माँ, मैं वही आपका नक्कू हूँ, झुमरू का बेटा। नकुल बोला।

नहीं तू तो मेरा बेटा नकुलचन्द है रे।”

नहीं माँ, मुझे नक्कू ही रहने दो।बड़ा प्यारा लगता है यह छोटा सा नाम।नकुलचन्द--- बाप रे बाप, इतने भारी भरकम नाम का बोझ मैं नहीं उठा पाऊँगा माँ। कहकर नकुल खिलखिला पड़ा।

  मां भी हँस पड़ी।पर तभी उनकी आँखे एक बार फिर नम हो आयीं।वे भर्राए गले से बोलीं-नकुल, मैंने कभी भी तुझे झुमरू के बेटे से अधिक कुछ नहीं माना।तेरे भीतर छिपे हुए हीरे को मैं कभी नहीं जान पायी।मुझे माफ कर दे बेटा।

नहीं माँ, भला कोई माँ अपने बेटे से ऐसा कहती है।एक ओर मुझे बेटा कहती हैं, वहीं दूसरी ओर मुझ से माफी भी माँग रही हैं!नहीं माँ, नहीं। कहते हुए नकुल ने अपना हाथ माँ के होठों पर रख दिया।

माँ नकुल के हाथ को अपनी दोनों हथेलियों के बीच दबाती हुई बोली-पहले मैं सोचती थी, कितना बड़ा मूर्ख है तू।लोग डाक्टर बन कर शहर में कमायी करते हैं।गाँव में भला क्या रखा है।पर नहीं, मैं गलत थी।

माँ, मैं पैसों के लिए इस पेशे में नहीं आया।यहाँ गाँव को मेरी ज्यादा जरूरत थी।यहाँ पैसा भले न हो, मगर लोगों का प्यार है।पैसे से आदमी जी तो लेता है, मगर दिल को सुकून तो प्यार से ही मिलता है।माँ उसे एकटक देखे जा रही थीं।नकुल सोच रहा था-- गाँव में अपना दवाखाना खोलना आज सचमुच सफल हो गया।

                                  ०००००००

लेखक--प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव



11मार्च,1929 को जौनपुर के खरौना गांव में जन्म।

31जुलाई 2016 को लखनऊ में आकस्मिक निधन।

शुरुआती पढ़ाई जौनपुर में करने के बाद बनारस युनिवर्सिटी से हिन्दी साहित्य में एम0ए0।उत्तर प्रदेश के शिक्षा विभाग में विभिन्न पदों पर सरकारी नौकरी।पिछले छः दशकों से साहित्य सृजन मे संलग्न।देश की प्रमुख स्थापित पत्र-पत्रिकाओं में कहानियों,नाटकों,लेखों,रेडियो नाटकों,रूपकों के अलावा प्रचुर मात्रा में बाल साहित्य का प्रकाशन।आकाशवाणी के इलाहाबाद केन्द्र से नियमित नाटकों एवं कहानियों का प्रसारण।बाल कहानियों,नाटकों,लेखों की अब तक पचास से अधिक पुस्तकें प्रकाशित।वतन है हिन्दोस्तां हमारा(भारत सरकार द्वारा पुरस्कृत)अरुण यह मधुमय देश हमारा”“यह धरती है बलिदान की”“जिस देश में हमने जन्म लिया”“मेरा देश जागे”“अमर बलिदान”“मदारी का खेल”“मंदिर का कलश”“हम सेवक आपके”“आंखों का तारा“मौत के चंगुल में”(नेशनल बुक ट्रस्ट द्वारा प्रकाशित बाल उपन्यास)“एक तमाशा ऐसा भी”(नेशनल बुक ट्रस्ट द्वारा प्रकाशित बाल नाटक संग्रह)आदि बाल साहित्य की प्रमुख पुस्तकें।इसके साथ ही शिक्षा विभाग के लिये निर्मित लगभग तीन सौ से अधिक वृत्त चित्रों का लेखन कार्य।1950 के आस पास शुरू हुआ लेखन एवम सृजन का यह सफ़र 87 वर्ष की उम्र तक निर्बाध चला।

 

                                                

 

 

शनिवार, 22 अगस्त 2020

थंडरहिट और टाइम मशीन

 वरिष्ठ बाल साहित्यकार और मेरे पिता आदरणीय श्री प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव जी ने अपने अंतिम दिनों में अपना दूसरा बाल उपन्यास मौत से दोस्ती लिखा था।दुर्भाग्य  यह बाल उपन्यास पिता जी के जीवनकाल में प्रकाशित नहीं हो सका था।मुझे इस उपन्यास का शीर्षक आपरेशन थंडरहिट ज्यादा ठीक और उपयुक्त लग रहा है ।इसलिए मैं पिता जी का यह उपन्यास आपरेशन थंडरहिट अपने ब्लॉग फुलबगिया पर सीरीज के रूप में प्रकाशित कर रहा।आज पढ़िए इस उपन्यास का तीसरा भाग)

3. थंडरहिट और टाइम मशीन

नील बचपन से ही बड़ा प्रतिभाशाली था।विज्ञान में उसकी विशेष रूचि थी। एक से बढ़कर एक मशीनेंउसकी कल्पना में आती रहती थी। इसके लिए वह अपने वैज्ञानिक मित्रों के साथ किसी न किसी प्रयोगशाला में डटा रहता।वे जो कल्पनाएं करते,उन्हें पूरी करने में जी-जान से जुट जाते।उसे पूरा करने के बाद ही उन्हें कुछ नया करने का संतोष मिलता, इसी तरह थंडरहिट का भी जन्म हुआ।

थंडरहिट एक अजीब महाशक्तिशाली मोटर बोट थी।एक चमत्कारी आविष्कार।वह न केवल पानी पर चलने वाली मोटर बोट थी,बल्कि पनडुब्बी की तरह घंटों पानी के भीतर रह सकती थी।हवा में उसे यान की तरह उड़ाया जा सकता था।

पहले उसे वन सीटर बनाने की बात थी।मगर नासा के अवकाश प्राप्त वैज्ञानिकों ने उसे टू सीटर बना दिया।इन वैज्ञानिकों की सलाह और सहयोग से ही थंडरहिट इतनी चमत्कारी बन सकी।इसमें अत्यंत शक्तिशाली 03 इंजन लगे हुए थे।उन्हें आवश्यकतानुसार एक साथ ही चलाने या एक ही इंजन से काम लेने की व्यवस्था थी।

वैज्ञानिकों ने उसमें एक रॉकेट लांचर भी फिट किया था।उसके लांचिंग पैड पर एक छोटा सा रॉकेट भी तैयार था।था तो वह छोटा,मगर बड़ा ही विनाशकारी।इसीलिए वैज्ञानिकों ने उसे किसी मुश्किल समय में उपयोग करने की अनुमति दी थी।वह भी उनकी पूर्व अनुमति लेकर,क्योंकि वे जानते थे कि इसका गलत प्रयोग हजारों निर्दोष प्राणियों की जान ले सकता है।

मगर सबसे अजीब उसमें एक और व्यवस्था थी।एक बटन दबाते ही,थंडरहिट के तीन मीटर के क्षेत्र में एक सुरक्षा कवच खड़ा हो जाता था।उसके भीतर वायु तक प्रवेश  नहीं कर सकती थी।यह सामान्य ईंधन के अलावा सौर ऊर्जा से भी चल सकती थी।इस थंडरहिट में पैराशूट भी लगा हुआ था,अन्यथा पृथ्वी की गुरूत्वाकर्षण शक्ति थंडरहिट को भारी नुकसान पहुंचा सकती थी।

नील की तरह ही राबर्ट भी बड़ा प्रतिभाशाली था।एक अच्छे वैज्ञानिक मस्तिष्क वाला।उसने एक ऐसी टाइम मशीन बनायी थी जो दुनियाभर के वैज्ञानिकों में चर्चा का विषय बन चुकी थी।इसमें भी उसने नासा के अवकाश प्राप्त वैज्ञानिकों की मदद ली थी।

इसका कम्प्युटराइज्ड राडार पटल हजारों लाखों किलोमीटर दूर से आने वाली ध्वनि तरंगों को पकड़ लेता था।सूक्ष्म से सूक्ष्म ध्वनि तरंगें उससे बचकर आगे नहीं बढ़ सकती थीं,चाहे वे किसी भी कूट भाषा में हों।उन्हें तुरन्त डी-कोड करने वाली मशीन लगी थी इस टाइम मशीन में।

इन्हीं ध्वनि तरंगों की मदद से वह भविष्य में घटने वाली घटनाओं का संकेत दे सकती थीं।अतीत की घटनाओं को पकड़ सकती थीं।यह सारे गुण उसमें लगे कम्प्युटर में थे।इस कम्प्युटर को बनाने में उसे दसियों प्रयोगशालाओं में काम करना पड़ा था।अनेक वैज्ञानिकों का सहयोग इस टाइम मशीन को फाइनल शक्ल देने में मिला हुआ था।इसीलिए नील और राबर्ट की यह जोड़ी सब जगह मशहूर हो चुकी थी।नील ने एक दिन हंसकर राबर्ट से पूछा-‘‘राबर्ट क्या मैं थंडरहिट का शक्ति परीक्षण कर सकता हूं ?”

‘‘क्यों नहीं।‘‘कहने को तो राबर्ट बोल गया,मगर वह भीतर से चकित था। आखिर नील करना क्या चाहता है ?क्यों उसने यह बात की थी।

‘‘राबर्ट,मैं अपने थंडरहिट को आकाश में ले जाना चाहता हूं।‘‘

इस बार राबर्ट भी मुस्कराकर बोला-‘‘नील क्यों मेरा सिर खा रहे हो ?

नील ने भी मुस्कराकर जवाब दिया-‘‘क्योंकि वह मुझे बड़ा टेस्टी लगता है।

राबर्ट गंभीर होकर बोला-‘‘मजाक छोड़ो,चलो कर लो परीक्षण लेकिन यह तो बताओ कि तुम आकाश में जाना किधर चाहते हो ?‘‘

‘‘मैं देखना चाहता हूं कि हिमालय की बर्फ से ढकी चोटियां थंडरहिट से कैसी नजर आती हैं।‘‘

सुनते ही राबर्ट का चेहरा गंभीर हो उठा।

‘‘क्या बात है राबर्ट ?‘‘नील थोड़ा उत्सुक हुआ।

‘‘जानते हो वह किसका क्षेत्र है ?

राबर्ट का यह प्रश्न सुनते ही नील समझ गया कि राबर्ट क्या चाहता है,फिर उसे अनेकों पुस्तकों में पढ़ी हुई बातें याद हो आईं।फिर भी पूछा-‘‘तुम्ही बताओ।

‘‘वह देवों के देव महादेव का क्षेत्र है।उस क्षेत्र से उनकी अनुमति के बिना एक चिड़िया भी नहीं गुजर सकती।‘‘

‘‘इतने शक्तिशाली हैं वे ?‘‘नील ने आश्चर्य से पूछा।

‘‘पहले वे मामूली इन्सान थे,मगर अपनी तपस्या और साधना के बल पर वे बन गये मृत्युंजय,देवों के भी देव।अब उनकी शक्ति को कोई चुनौती नहीं दे सकता।किसी ने दी भी तो उसने मुंह की खाई।वे परमपिता परमात्मा की शक्ति का अंश हैं जैसे हमारे क्राइस्ट और खुदा।

‘‘राबर्ट,यह कैलाशवासी शिव और उनकी महाशक्ति सब काल्पनिक बातें हैं।मुझे आश्चर्य है कि तुम्हारे जैसा वैज्ञानिक भी इन बातों पर विश्वास करता है?‘‘ कुछ ऐसा ही नील वाटसन से भी कहना चाहता था,मगर हिम्मत नहीं पड़ी।

‘‘नील मैं तुम्हें कोई प्रवचन नहीं दे रहा हूं।‘‘आगे राबर्ट ने करीब-करीब वही बातें कहीं,जो वाटसन ने कही थी।

राबर्ट बोला-‘‘तुम अवश्य जाओ।थंडरहिट का परीक्षण करो,मगर ध्यान रहे कि किसी भी तरह उस शक्ति की अवमानना नहीं होनी चाहिए।वे तुम्हें दंडित कर सकते हैं।पर नहीं करेंगे।वे बड़े क्षमाशील हैं।इसी से उनका नाम आशुतोष भी है।उनके क्षेत्र में प्रवेश

करने से पहले उन्हें प्रणाम अवश्य कर लेना।मेरे टाइम मशीन के कंपन संकेत दे रहे हैं कि........।‘‘कहता-कहता राबर्ट अचानक चुप हो गया।

नील चौंककर बोला-‘‘राबर्ट तुम कहते-कहते चुप क्यों हो गये।बताओ न तुम्हारी मशीन क्या संकेत दे रही है ?

     राबर्ट बोला,--“नील,तुम दो-तीन साल पहले भारत गये थे।उस समय वहां के कुछ मछुआरों से तुम्हारी दोस्ती हुयी थी।क्यों?”

हां।कृष्णन और अरुण स्वामी।मैं उस समय थंडरहिट बना रहा था।सुन कर वे मेरे दीवाने हो गये।कहने लगे,--“यहां अक्सर कोई न कोई तूफान आता रहता है।सैकड़ों मछुआरे उसमें फंस जाते हैं। आप साल में एक-दो बार यहां आ जाया करें।इससे हमें बड़ी राहत मिलेगी।मैं उनके प्रति वचनबद्ध हो गया।---हां,तुम्हारी टाइम मशीन?”

 

राबर्ट बोला-- मेरी मशीन उसी का संकेत दे रही है।तुम्हें उन्हीं के लिये बीच में लौटना पड़ सकता है।

उस विपत्ति से बचने के लिए तुम्हें महादेव शक्ति की तरंगे भेजेंगे।उन्हें सब पहले से ज्ञात है।वे हम लोगों का कोई अनिष्ट नहीं होने देंगे।

नील राबर्ट के इस लंबे-चौड़े भाषण से ऊब रहा था।उसका धैर्य जवाब दे रहा था।वह हंसकर बोला-‘‘राबर्ट अब मेरे पास वक्त नहीं है।चलो,तुम्हारी टाइम मशीन के संकेत सच हो सकते हैं,लेकिन यही तो मेरे थंडरहिट का शक्ति परीक्षण होगा।चलता हूं।

तुरन्त थंडरहिट बन्दूक से छूटी गोली की तरह ऊपर उठा और आकाश की ऊंचाइयों में खो गया।राबर्ट उस ओर देखता भर रहा।(क्रमशः)

                                     ०००

लेखक-प्रेमस्वरूप श्रीवास्तव

11मार्च,1929 को जौनपुर के खरौना गांव में जन्म।31जुलाई2016 को लखनऊ में आकस्मिक निधन।शुरुआती पढ़ाई जौनपुर में करने के बाद बनारस युनिवर्सिटी से हिन्दी साहित्य में एम00।उत्तर प्रदेश के शिक्षा विभाग में विभिन्न पदों पर सरकारी नौकरी।देश की प्रमुख स्थापित पत्र पत्रिकाओं सरस्वती,कल्पना, प्रसाद,ज्ञानोदय, साप्ताहिक हिन्दुस्तान,धर्मयुग,कहानी,नई कहानी, विशाल भारत,आदि में कहानियों,नाटकों,लेखों,तथा रेडियो नाटकों, रूपकों के अलावा प्रचुर मात्रा में बाल साहित्य का प्रकाशन।

     आकाशवाणी के इलाहाबाद केन्द्र से नियमित नाटकों एवं कहानियों का प्रसारण।बाल कहानियों,नाटकों,लेखों की अब तक पचास से अधिक पुस्तकें प्रकाशित।वतन है हिन्दोस्तां हमारा(भारत सरकार द्वारा पुरस्कृत)अरुण यह मधुमय देश हमारा”“यह धरती है बलिदान की”“जिस देश में हमने जन्म लिया”“मेरा देश जागे”“अमर बलिदान”“मदारी का खेल”“मंदिर का कलश”“हम सेवक आपके”“आंखों का ताराआदि बाल साहित्य की प्रमुख पुस्तकें।इसके साथ ही शिक्षा विभाग के लिये निर्मित लगभग तीन सौ से अधिक वृत्त चित्रों का लेखन कार्य।1950 के आस पास शुरू हुआ लेखन एवम सृजन का यह सफ़र मृत्यु पर्यंत जारी रहा। 2012में नेशनल बुक ट्रस्ट,इंडिया से बाल उपन्यासमौत के चंगुल में तथा 2018 में बाल नाटकों का संग्रह “एक तमाशा ऐसा भी” प्रकाशित।