शुक्रवार, 24 जुलाई 2009

ये दिन




काले काले बादल आये
सूरज के शरमाने के दिन
गर्मी टाटा करके बोली
मेरे हैं अब जाने के दिन।

मोर नाच कर कहता सबसे
आये खुशी मनाने के दिन
बंधन कोई बांध न पाये
नदिया के इठलाने के दिन।

पलक झपकते छुट्टी बीती
नई क्लास में जाने के दिन
होमवर्क फ़िर गले पड़ गया
पढ़ने में जुट जाने के दिन।
00000000
गीतकार:कौशल पाण्डेय
हिन्दी अधिकारी
आकाशवाणी ,पुणे ।
मोबाइल न0-:09823198116
हेमन्त कुमार द्वारा प्रकाशित

6 टिप्‍पणियां:

  1. गीतकार:कौशल पाण्डेय जी के सुन्दर बाल-गीत के लिए बधाई।
    हेमन्त कुमार जी का आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  2. अति सुंदर बाल कविता मौसम के अनुरूप

    उत्तर देंहटाएं
  3. फिर आपने मेरा schooly जीवन याद दिला दिया? कोई बात नहीं..इन पंक्तियों में जी लेंगे..
    hemant ji ko बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सुंदर और प्यारा बाल गीत है! मुझे बेहद पसंद आया ! मैं तो अपने स्कूल के दिनों में लौट गई!

    उत्तर देंहटाएं