रविवार, 7 जून 2015

बरफ मलाई

बरफ मलाई,बरफ मलाई,
ठंढी मीठी बरफ मलाई।
गर्मी में सबको भाती है,
रंग बिरंगी बरफ मलाई।
बरफ मलाई--------।

गली में टुनटुन घंटी सुन,
दौड़े मुनिया राजू भाई,
फिर सबने हुड़दंग मचाई,
हमको बरफ खिलाओ भाई
बरफ  मलाई----।

घिस घिस करके काका ने फिर,
सबको  मीठी  बरफ   खिलाई,
मुनिया  क्यों  रुठी काका  से,
उसको  खांसी  आती   भाई।

बरफ  मलाई बरफ  मलाई ,
ठंढी   मीठी  बरफ   मलाई ।
000000
डा0हेमन्त कुमार


2 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (08-06-2015) को चर्चा मंच के 2000वें अंक "बरफ मलाई - मैग्‍गी नूडल से डर गया क्‍या" (चर्चा अंक-2000) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    उत्तर देंहटाएं
  2. मुझे भी बहुत भाती है बरफ मलाई....सुंदर गीत

    उत्तर देंहटाएं