मंगलवार, 9 फ़रवरी 2016

ये नन्हें चित्रकार


नन्हें बच्चों की अपनी दुनिया होती है।उनकी अपनी कल्पनाएं होती हैं।उनकी अपनी सोच होती है और किसी चीज को देखने परखने का नजरिया भी एकदम अनोखा होता है।जिसकी हम कल्पना भी नहीं कर सकते। आज मैं यहां ऐसे ही कुछ नन्हें मुन्ने चित्रकारों के खुद के बनाए चित्रों को प्रदर्शित कर रहा हूं।जरा आप भी देखिये इन चित्रों में इन बच्चों ने अपनी किन कल्पनाओं को रंगों के माध्यम से साकार किया है।
(चित्रकार-साहित्य)



                                                                 


















साहित्य
कक्षा-5,केन्द्रीय विद्यालय
हिण्डन


                                                     (चित्रकार-खुशबू)


                                    (चित्रकार-खुशबू,लखनऊ)


                                                 
(चित्रकार--अर्नव यश,मुम्बई)




                                             














                                                                 
(चित्रकार--अर्नव यश,मुम्बई)



















                                                       
                                                                                

3 टिप्‍पणियां:

  1. नन्हें हाथों की सुन्दर चित्रकारी...सभी बच्चों को बधाई व स्नेह !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत प्यारे हैं सभी .... सुंदर पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 11-02-2016 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2249 पर दिया जाएगा
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं