शुक्रवार, 9 जनवरी 2015

चंदा मामा

चंदा  मामा चंदा  मामा
तुम जल्दी से आ जाना
कु  प्यारे प्यारे से सपने
मेरी इन आँखों में लाना।
चंदा मामा
तुम जल्दी से आ जाना।

मामा  तुम जब आते हो
मन को  बहुत लुभाते हो
सभी मुझे  यह कहते है
कितना हमें सताते हो।
 चंदा मामा
तुम जल्दी से आ जाना।

मामा जब तुम आते हो
तो अम्मा भी आ जाती है
प्यारी प्यारी नई  कथाएं
हमको रोज सुनाती  है।
 चंदा मामा
तुम जल्दी से आ जाना।

मामा जब तुम आते हो
अम्मा लोरी गाती  है
हाथो से थपकी दे देकर
मीठी नींद सुलाती है 
 चंदा मामा
तुम जल्दी से आ जाना।
000

कवियत्री-



6 टिप्‍पणियां:

  1. वाह शशी जी ...मनभावन बाल गीत ..बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. सार्थक प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (11-01-2015) को "बहार की उम्मीद...." (चर्चा-1855) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. अति सुन्दर .......बचपन की यादों को आपने उजागर कर दिया!

    उत्तर देंहटाएं