गुरुवार, 5 मार्च 2009

बालगीत




आज का ताजा है अख़बार
खबरें छपी मसालेदार।

शादी करने बन्दर मामा
लेकर चले बारात
मचल गए वे बीच राह में
कर बैठे उत्पात
अड़े हुए थे एक बात पर
पहले दहेज़ में कार।
आज का ताजा है अख़बार....।

उल्लू चोंच दबा कार भागा
नेताजी की टोपी
नेताजी को गुस्सा आया
ले ली मदद पुलिस की
नेताजी ने लड़ा मुकदमा
गए बेचारे हार।
आज का ताजा है अख़बार।

चुहिया चोरी करके लाई
एक मेम की साड़ी
प्रेमी चूहे के संग पकड़ी
दूर देश की गाड़ी
बीच राह चूहे ने छोड़ा
कौन लगाये पार।
आज का ताजा है अख़बार।

हुआ शहर में एक हादसा
लोग रह गए दंग
हाथी से टक्कर लेने को
मच्छर पहुँचा पीकर भंग
शेष हाल कल के पन्नों पर
भूल न जाना यार।
आज का ताजा है अख़बार ।
********
कवि-कौशल पांडेय
हिन्दी अधिकारी
आकाशवाणी,पुणे(महाराष्ट्र)
मोबाईल न:09823198116
पोस्टेड बाई-हेमंत कुमार

2 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय हेमंत जी ,
    बहुत अच्छा बालगीत .कौशल जी को मेरी ढेरों बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  2. होली पर क्यों नहीं नया कुछ?
    लगता है - ज़्यादा खेली है!

    उत्तर देंहटाएं