रविवार, 22 मार्च 2009

बाल गीत -मेरी नानी








मेरी छोटी बेटी नित्या शेफाली का बाल गीत ........




मेरी नानी
मेरी नानी बड़ी हैं ज्ञानी
रोज सुनाती नयी कहानी
वह हम बच्चों से घिर जातीं
जब घिर आती शाम सुहानी।

हम बच्चों के कहने पर
देश प्रेम की कथा सुनातीं
वीर शिवा की अमर कथा से
हम बच्चों को वीर बनातीं।

भालू बन्दर तोता मैना
परी कथा नित नई नई
दूर देश के राजा मंत्री
सबसे हमको हैं मिलवाती।

गांधी नेहरू और भगत सिंह
रानी लक्ष्मी के बचपन की
हरिश्चंद्र के सत्य प्रेम की
अमर कथाएँ हमें सुनातीं।

मेरी नानी बड़ी हैं ज्ञानी
रोज सुनाती नई कहानी।
०००००००

हेमंत कुमार द्वारा प्रकाशित

2 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. अरे वाह! नित्या तो अभी से ही बहुत अच्छा लिखती है। उसे खूब सारा स्नेह!

    उत्तर देंहटाएं