सोमवार, 28 मार्च 2011

लोहार काका

ठक ठक,ठन ठन
कर रहे लोहार काका
लोहे के बर्तन खिलौने
बना रहे लोहार काका।
ठक ठक,ठन ठन-----।

टूटी खुरपी हो या कुदाल,
टूटे बर्तन हल का फ़ाल,
सबको ठोंक पीट कर भैया,
ठीक बनाते लोहार काका।
ठक ठक,ठन ठन-------।

भट्ठी की गर्मी भी सहते,
हरदम मेहनत करते रहते,
हम सबको तो प्यारे लगते,
मेहनत करते लोहार काका।

ठक ठक,ठन ठन
कर रहे लोहार काका।
0000
हेमन्त कुमार


4 टिप्‍पणियां: